सोना, प्लैटिनम जैसे महंगे मेटल के बारे में तो आपने काफी सुना होगा, लेकिन क्या आप जानते हैं कि दुनिया की सबसे महंगी कमोडिटी कौन सी है? आपको बता दें कि यह ऐंटीमैटर है, जिसके एक ग्राम की कीमत लगभग 393.75 लाख करोड़ रुपए (6.25 लाख करोड़ डॉलर) है. अमेरिका का प्रतिष्ठित स्पेस एजेंसी नासा के मुताबिक, ऐंटीमैटर धरती का सबसे महंगा मटीरियल है.
ऐंटीमैटर एक तरह का ईधन है, जिसे अंतरिक्षयान और विमानों में यूज किया जाता है. वैज्ञानिकों के मुताबिक ऐंटीमैटर एक पदार्थ के जैसा है, लेकिन उसके एटम के भीतर की हर चीज उलटी है. एटम में सामान्य तौर पर पॉजिटिव चार्ज वाले न्यूक्लियस और नेगेटिव चार्ज वाले इलेक्ट्रोंस होते हैं, लेकिन ऐंटीमैटर एटम में नेगेटिव चार्ज वाले न्यूक्लियस और पॉजिटिव चार्ज वाले इलेक्ट्रोंस होते हैं.
वैज्ञानिकों का मानना है कि करीब आधा किलो ऐंटीमैटर में दुनिया के सबसे बड़े हाइड्रोजन बम से भी ज्यादा विध्वंसक ताकत होती है. लेकिन, इससे उपयोगी ऊर्जा प्राप्त करने के लिए काफी बड़ी राशि की जरूरत होती है. नासा के प्रवक्ता के अनुसार, इस वक्त एक मिलीग्राम ऐंटीमैटर बनाने में 250 लाख रुपए का खर्च बैठेगा. ऐंटीमैटर को इसलिए सबसे महंगा माना जाता है, क्योंकि इसे बनाने वाली टेक्नॉलजी बेहद खर्चीली है.
ऐंटीमैटर की खोज बीसवीं शताब्दी में हुई थी. यह अंतरिक्ष में ही छोटे-छोटे टुकड़ों में मौजूद है. इसे बनाने के लिए लैब में वैज्ञानिक इसे दूसरे पदार्थों के साथ मिलाकर रिफाइन करते हैं.