90 हजार बैंक खाते ब्लॉक, राशि जमा होगी, लेकिन निकासी नहीं

·


कोडरमा, जेएनएऩ। बैंकों में डिटेल नहीं देने वाले जिले के 90 हजार से ज्यादा खाता धारकों का खाता ब्लॉक कर दिया गया है। 30 अप्रैल तक खाताधारकों को केवाइसी व आधार संख्या डिटेल देना था, लेकिन उक्त खाताधारको ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। लिहाजा केवाईसी(नो योर कस्टमर) व आधार डिटेल नहीं देने पर 1 मई से ही ऐसे खाताधारकों का खाता बंद कर दिया गया है। ऐसे खाताधारक अपने खातों से किसी भी प्रकार की राशि निकासी कर सकेंगे। क्योंकि उनके खाते को बंद करते हुए किसी प्रकार की निकासी पर रोक लगा दी गई है।ऐसे खाताधारक एटीएम से भी निकासी नहीं कर सकेंगे। इसमें अधिकतर जेनरल खाता धारक है।

राशि जमा होगी, लेकिन निकासी नहीं
पूरे जिले में करीब 7 लाख खाताधारक हैं। इसमें 2.27 लाख जनधन खाते हैं, जबकि शेष जेनरल खाता है। वहीं, जनधन खातों में 92 फीसद खाता को आधार से जोड़ दिया गया है, जबकि जेनरल खाता की स्थिति ज्यादा खराब है। अकेले बैक ऑफ इंडिया की विभिन्न शाखाओं में सर्वाधिक 2.75 लाख खाताधारक है। जहां करीब 20 फीसद खाताधारकों ने केवाइसी व आधार डिटेल नहीं दिया है, जबकि अन्य बैंकों के लगभग 15 फीसद खाताधारक का डिटेल नहीं मिल पाया है। ऐसे में इन खातों से राशि निकासी करना फिलहाल मुश्किल होगी, जबकि इन खातों में खाताधारक अपने खाते में राशि जमा कर पाएंगे, लेकिन निकासी नहीं कर पाएंगे।

क्या कहते है बैंक अधिकारी
एलडीएम (जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक) सुधीर शर्मा ने बताया कि 30 अप्रैल तक सभी खाताधारकों को केवाईसी व आधार का डिटेल देना था, लेकिन करीब 15 फीसद खाताधारक डिटेल नहीं दिए हैं। लिहाजा ऐसे खाताधारकों के खाता से किसी भी प्रकार की निकासी पर रोक लगाई गई है। एटीएम से भी ऐसे खाताधारक निकासी नहीं कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि केवाईसी डिटेल्स अनिवार्य किया गया है। खाता धारक संबंधित शाखा में डिटेल देकर अपना खाता नियमित करवा सकते है। वहीं, ऐसे खातों में राशि जमा करने पर किसी तरह की रोक नहीं होगी। उन्होंने कहा कि खाताधारकों को पूर्व से ही मैसेज व अन्य सूचनाओं के माध्यम से जानकारी दी जा रही थी। बावजूद काफी लोग अपना केवाईसी में डिटेल्स नहीं दिये।

30 जून तक सभी खाता को आधार से जोड़ने का लक्ष्य
सभी बैंक खातों को आधार से जोड़ने के लिए 30 जून तक समय अवधि का विस्तार किया गया है। सभी बैंकों को इस समय तक शतप्रतिशत खातों को आधार सी¨डग करने का लक्ष्य दिया गया है। बावजूद नहीं होने पर संबंधित खाता को पूरी तरह ब्लॉक किया जा सकता है। एलडीएम सुधीर शर्मा ने बताया कि खातों को आधार से जोड़ने के लिए लगातार अभियान चलाया जा रहा है। सभी बैंकों द्वारा ऐसे खाताधारकों को विभिन्न माध्यमों से सूचित कर आधार नंबर की मांग की जा रही है। वहीं, आधार के साथ-साथ खाता में मोबाइल नंबर सी¨डग भी किया जा रहा है। सरकार के निर्देश पर कार्रवाई चल रही है।

नए खाता के लिए पैन कार्ड जरूरी
अब खातों के संचालन के लिए पैन कार्ड को आवश्यक किया जा रहा है। बिना पैन कार्ड के जेनरल खाता खोलना भी मुश्किल होगा। एलडीएम सुधीर शर्मा ने बताया कि जेनरल खातों में राशि का ट्रांजेक्शन 50 हजार से ज्यादा का होता है। ऐसे में इन खातों के लिए पेन कार्ड अनिवार्य किया गया गया है। नये खाता के साथ-साथ अन्य जेनरल खाता के लिए भी पैन कार्ड की मांग की जा रही है। इसके लिए खाताधारकों को मैसेज व अन्य माध्यम से सूचना दी जा रही है।

क्या है केवाईसी
केवाइसी यानी नो योर कस्मर के तहत बैंकों में अपना जानकारी देना अनिवार्य है। खाताधारक को केवाइसी के तहत पूरी डिटेल्स देना है। इसके तहत खाताधारक को आधार नंबर, पेन नंबर, वोटर कार्ड नंबर, निवास स्थल, कारोबार, मोबाइल संख्या, आदि की जानकारी फॉर्म में फोटो के साथ देनी होती है। रिजर्व बैंक के निर्देश पर यह प्रक्रिया अनिवार्य की गई है।
बढ़ेगी खाताधारकों की परेशानी
बड़ी संख्या में खाता ब्लॉक होने से खाताधारकों की परेशानी काफी बढ़ जाएगी। सरकार के इस दिशा-निर्देश को उपभोक्ताओं तक पहुंचाने में व्यापक प्रचार-प्रसार नहीं होने के कारण भी लोगों को जानकारी नहीं मिल पाई। ऐसे में अति आवश्यक होने के बाद भी ऐसे खाताधारक तत्काल राशि निकासी से वंचित होंगे।

Read Source

Subscribe to this Blog via Email :
You Will Like This..