घर खरीदने वालों के लिए बंपर खुशी…मोदी के तेवर देखकर बिल्डर्स ने किया बड़ा वादा !

·

घर खरीदने वालों के लिए हम एक शानदार खबर लेकर आए हैं। मोदी सरकार के एक्शन के बाद बिल्डर्स ने बायर्स से बड़ा वादा कर दिया है।

New Delhi, May 13 : आपको याद होगा कि मोदी सरकार ने देशभर के बिल्डर्स के लिए सख्त नियम तैयार किए हैं। इन नियमों के तहत बिल्डर्स को हर हाल में अपना प्रोजक्ट वक्त पर बायर्स को सौंपना होगा। सरकार के इस एक्शन के बाद से नोएडा और ग्रेटर नोयडा के बिल्डर्स अब काम में जुट गए हैं। तमाम बिल्डर्स ने वादा किया है कि उनके अटके पड़े हाउसिंग प्रजक्ट्स को साल 2020 से पहले पूरा कर दिया जाएगा। जी हां नोएडा और ग्रेटर नोएडा के बिल्डर्स ने ये वादा किया है।  इन बिल्डर्स में जेपी, सुपरटेक और आम्रपाली जैसे बड़े बिल्डर्स के नाम शामिल हैं। इन सभी ने नोएडा विकास प्राधिकरण से लिखित में वादा किया है। पांच डिवेलपर्स ने अपने 14 हाउसिंग प्रोजक्ट्स का टॉवर-वार प्लान पेश किया है।
इनमें ज्यादातर प्रोजक्ट्स के लिए 3 से 5 साल तक की मियाद रखी गई है। इसके साथ ही जेपी ग्रुप ने अपने अटके प्रोजेक्ट को मार्च 2018 तक डिलिवर करने की बात कही है। इसके साथ ही आने वाले
प्रोजक्ट के लिए भी इस ग्रुप ने खाका पेश किया है। इसके लिए ग्रुप ने प्लान पेश किया है। प्लान के मुताबिक ये ग्रुप  मार्च 2018 तक 25 टावरों में 2,690 घरों की यूनिट्स पूरी कर देगा। आम्रपाली ग्रुप ने तो जून 2017 में ही अपने अटके प्रोजक्ट को पूरा करने का वादा किया है।
इसके अलावा आम्रपाली सिलिकॉन सिटी के लिए भी बिल्डर ने सितंबर 2018 तक पहला फेज पूरा करने की बात कही है। पहला फेज 2 जून तक पूरा होगा। इसके अलावा दूसरा फेज सितंबर 2020 तक
पूरा होगा। इसके साथ ही सुपरटेक एक अकेला ऐसा बिल्डर है, जिसने कहा है कि उसका एक भी प्रोजक्ट पेंडिंग नहीं है। इसके साथ ही इस ग्रुप ने अपने इकोसिटी, केपटाउन, सुपरनोवा, द रोमानो और ई-स्क्वायर परियोजनाओं में मार्च 2018 तक 5,155 फ्लैट्स सौंपने का दावा किया है।
कुल मिलाकर कहें तो जबसे भारत सरकार ने देश के तमाम बिल्डर्स के खिलाफ सख्त रुख अख्तियार किया है, उससे कहा जा रहा है कि बिल्डर्स अब किसी भी तरह की धोखाधड़ी नहीं कर सकते। इसके
अलावा कहा जा रहा है कि भारत के रियल एस्टेट सेक्टर को मजबूती देने के लिए मोदी सरकार आगे भी बड़े कदम उठा सकती है। अब देखना ये है कि अपने वादे पर ये बिल्डर्स कितना खरा उतरते हैं।
संदर्भ पढ़ें

Subscribe to this Blog via Email :
You Will Like This..