ये है बाहुबली की 'महिष्मति', बाहुबली से कइ गुना ज्यादा ताकतवर था यहाँ का राजा..!!

·

बाहुबली का जिक्र कई दिनों या महीनों नहीं बल्कि सालों से चल रहा है। अच्छा एक बात बताइये फिल्म के मुख्य किरदारों 'बाहुबली', 'देवसेना', 'शिवगामी' 'भल्लालदेव' जैसे नामों के अलावा और कौनसा नाम लोगों की ज़बान पर चढ़ा हुआ है। अब आपने टाइटल देख ही लिया है तो आप समझ ही गए होंगे कि मैं 'महिष्मति' की बात कर रहा हूँ।
फिल्म में तो 'महिष्मति' साम्रज्य को काल्पनिक दिखाया गया है। सब सेट्स और स्पेशल इफेक्ट्स का कमाल है।लेकिन क्या आपको पता है हमारे देश भारत में असल में 'महिष्मति' हुआ करता था? वैसे तो वो अभी भी है, बस उसका नाम जरा बदल गया है।
हाँ तो कौनसी है वो जगह या नगर जिसे एक समय में 'महिष्मति' कहा जाता था? आइए जानते हैं।
दक्षिण भारत में नहीं 'महिष्मति'
चूँकि यह फिल्म टॉलीवूड में बनी है, इसलिए पहली बात दिमाग में यही आती है कि 'महिष्मति' का दक्षिण भारत से कुछ ताल्लुक होगा। लेकिन मैं आपको बता दूँ कि महिष्मति दक्षिण भारत में नहीं, बल्कि मध्यभारत में हुआ करता था। यह बिल्कुल सच्ची बात है।
नर्मदा के किनारे बसा है 'महिष्मति'



कई लोग तो तस्वीर देखकर ही समझ गए होंगे। जी हाँ, मैं मध्यप्रदेश के खरगोन के समीप स्थित, महेश्वर शहर की ही बात कर रही हूँ। महेश्वर का जिक्र महाभारत और रामायण में भी मिलता है। महेश्वर मंदिरों, घाटों, किले और माहेश्वरी साड़ियों के लिए प्रसिद्ध है।
राजा महिष्मान ने की थी महेश्वर की खोज



महिष्मान सोम वंश से था। महेश्वर के इतिहास का वर्णन कई शास्त्रों और लोकगीतों में मिलता है। राजा कार्तवीर्य अर्जुन के समय में महिष्मति नगर अवंति साम्रज्य की राजधानी हुआ करता था। रामायण और महाभारत काल में महेश्वर की भूमि पर कई युद्ध भी लड़े गए।
राजा कार्तवीर्य की कहानी सुनकर आपको याद आ जाएगा 'बाहुबली'



जिस तरह फिल्म में महिष्मति के पास बाहुबली जैसा शूरवीर राजा था। उसी तरह असल महिष्मति में भी राजा कार्तवीर्य हुआ करता था। वो हैहई वंश के राजा कृतवीर्य और पद्मिनी का पुत्र था। वो भगवान दत्तात्र का बहुत बड़ा भक्त था। उन्होंने उसे 1000 हाथों का वरदान भी दिया था और उसे सहस्त्रार्जुन के नाम से जाना जाने लगा।
रावण को कर लिया था कैद



लंकापति रावण की शक्ति व बुद्धि से तो आप भली-भाँति परीचित हैं। लेकिन सहस्त्रार्जुन ने तो रावण को ही कैद कर लिया था। इतना ही नहीं सहस्त्रार्जुन ने अपने 1000 हाथों के दम पर नर्मदा नदी के बहाव को भी रोक दिया था।
राजा नील की कहानी भी जुड़ी है महिष्मति से



पत्रिका के अनुसार महाभारत काल में यहाँ राजा नील का शासन हुआ करता था। जिनका वध सहदेव ने किया था। इसके अलावा राजा नील की बेटी और अग्नि देवता की प्रेम कहानी भी मशहूर है।
रानी अहिल्याबाई ने भी महेश्वर को बनाया था अपनी राजधानी



होलकर साम्रज्य की महारानी अहिल्याबाई ने 1795 तक महेश्वर पर राज किया था। वो भगवान शिव की परम भक्त थी। उन्होनें महेश्वर में कई छतरियां और घाट बनवाए थे।
28 घाट हैं महेश्वर में



जिनमें अहिल्या घाट, महिला घाट, पेशवा घाट और फणसे घाट प्रमुख है। इसके अलावा महेश्वर का किला, एक मुखी दत्त मंदिर, सहस्त्रार्जुन मंदिर, बाणेश्वर महादेव मंदिर आदि प्रमुख हैं।
अक्षय कुमार पहुंचे महिष्मति



हाँ जी अक्षय कुमार ही नहीं कई सेलिब्रिटीज महेश्वर में देखे जा सकते हैं। यह इसलिए कि महेश्वर फिल्म और टीवी इंडस्ट्री के लिए फेवरेट शूटिंग डेस्टिनेशन बना हुआ है। महेश्वर में लगभग 40 फिल्मों की शूटिंग हो चुकी है। अक्षय कुमार ने हाल ही में यहां 'पैडमैन' का शूट किया है।
कैसा लगा आपको असल महिष्मति?



फिल्मों के अलावा महिष्मति आर्किटेक्चर के स्टूडेंट्स के लिए भी बहुत उपयोगी डेस्टिनेशन हैं। चलिए हमने तो आपको असली माहिष्मत से जुड़ी इतनी सारी जानकारी दे दी। अब आप बताओ आपको यह सब जानने में मजा आया या नहीं? अगर आपको मजा आया हो एक बार महेश्वर घूम भी आइएगा। बता रही हूँ एकदम बाहुबली वाली फीलिंग आएगी।

सौजन्य - Madhya Pradesh Tourism

Subscribe to this Blog via Email :
You Will Like This..