बाजार में आ गए प्लास्टिक के चावल, इन पांच तरीकों से करिए नकली चावल की पहचान

·

तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में कई किराना दुकान पर प्लास्टिक चावल बिकने कि खबर सोशल मीडिया पर जोरों से फैल रही है। कई जगह पर ग्राहकों ने प्लास्टिक चावल बेचने के शक में दुकानदारों को पीट कर पुलिस के हवाले कर दिया। अभी ताज़ा खबर उत्तराखंड से आ रही है, जहाँ पर प्लास्टिक चावल की जानकारी से
लोगों में डर पैदा हो गया है। अगर ऐसे ही प्लास्टिक चावल आपके सामने आए तो आप उसे कैसे पहचानेंगे। तो चलिए आज हम आपको पांच आसान तरीके
बतायेंगे की जो कर देंगे दूध का दूध और पानी का पानी।
वॉटर टेस्ट
एक बड़ा चम्मच चावल लेकर एक गिलास पानी में डालें और उसे कुछ देर तक हाथ से हिलाते रहे अगर कुछ मिनट के बाद चावल पानी के ऊपर तैरने लगे तो समझ
लेना कि वह चावल प्लास्टिक से बने है। क्योंकि असली चावल कभी पानी पर नहीं तैरता बल्कि उसमें डूब जाता है।
गरम तेल में टेस्ट
एक कढ़ाई में तेल लेकर उसे गरम करे फिर उसमें आधी मुट्ठी चावल डाल दे, अगर वह प्लास्टिक से बना होगा तो वह पिघल कर आपस में चिपक जाएंगे।
फायर टेस्ट
आधी मुट्ठी चावल लेकर उसे कागज़ पर रखकर जलाये, अगर जलने पर चावल से प्लास्टिक जलने जैसी महक आए तो समझले कि वह चावल खाने लायक नहीं है।
उबालने का टेस्ट
एक मुट्ठी चावल लेकर उसे किसी बड़े बर्तन में उबाले अगर वह चावल नकली है तो पानी की ऊपरी सतह पर एक मोटी परत जमने लगेगी, जो की प्लास्टिक
मटेरियल की होगी, तो समझ लेना की वह चावल प्लास्टिक से बना है।
फफूंद टेस्ट
अगर आपको चावल उबालने के बाद भी उस पर शक हो रहा है तो उस को एक बोतल में बंद करके 3 दिन के लिए रख दे। अगर इस दौरान चावल पर फफूंद लगने
लगे तो वह असली है वरना वह प्लास्टिक से बना है, क्योंकि प्लास्टिक पर फफूंद कभी नहीं लगती।

Subscribe to this Blog via Email :
You Will Like This..